Health

Aids/HIV से बचने के घरेलु उपाए-Home remedies for avoiding AIDS / HIV

दोस्तों एड्स जिसके बारे में हम आपके लिए दो पोस्ट शेयर कर चुके है. जिसमे हमने आपको बताया की एड्स क्या है.और कैसे होता है. और दोस्तों आज हम इस पोस्ट में जानेगे एड्स के कुछ घरेलु उपाए जिन्हे अपनाकर एड्स को कही न कही खत्म किया जा सकता है.HIV A Aids एड्स जिसका पूरा नाम है “एक्वायर्ड इम्यूनो डेफिशियंसी सिंड्रोम”. यह रोग पहली बार 1981 में अमरीका के लॉस एंजिलिस और न्यू यॉर्क जैसे बड़े शहरों के चिकित्सकों को तब पता चला जब उनके पास “समलैंगिक यौन क्रिया” के कुछ व्यक्ति अपना इलाज कराने आये. माना जाता है. की एड्स जिसे भी हो जाता है. उसका बचना बहुत मुश्किल होता है. क्योकि इसका इलाज अभी संभव नहीं है, परन्तु कुछ ऐसे घरेलु उपाए है. जिनका उपयोग करके इससे बचा जा सकता है. एड्स बहुत ही गंभीर बीमारी है.जो असुरक्षित योंन संभंध बनाने से एड्स के जीवाणु शरीर में प्रवेश कर जाते है.इस बीमारी का कई दिनों तक तो रोगी को पता ही नहीं चल पाता है.एड्स HIV नामक विषाणु  की वजह से होता है.जिसका पूरा नाम ह्यूमन डेफिसेंसी वायरस है. जब यह वायरस किसी के शरीर में प्रवेश कर जाता है. तो ये वायरस प्रतिकार शक्ति को कम कर देता है, जिससे रोगी एड्स का शिकार हो जाता है.

Aids/HIV से बचने के घरेलु उपाए

एड्स के लक्षण

HIV के विषाणु शरीर में प्रवेश करने बाद.भी कुछ लोगो के इसके बारे में नहीं पता चल पता है. और न ही इससे किसी प्रकार की कोई तकलीफ होती है. इसमें रोगी सामान्य ही लगता है. और कुछ दो या तीन साल में ये लक्षण गंभीर रूप धारण कर लेते है. कुछ लोगो में ये जल्दी भी नजर आ जाते है. हम आपको यहाँ कुछ लक्षण भी बता देते है.

एचआईवी एड्स क्या है कैसे होता है

  • AIDS के रोगी का वजन घटना शुरू हो जाता है. दो तीन महीने में उसका वजन 4-5 किलो तक घटना शुरू हो जायेगा.
  • ह तथा कंठ में छाले या जख्म हो जाना, खांसी होना, और निरंतर बलगम आना, एड्स के 60 प्रतिशत रोगियों से भी ज्यादा में टी.बी. की शिकायत देखने को मिलती है.
  •  ज्यादा समय तक सुखी खांसी का रहना।
  • हर समय जुकाम रहना।
  • सर में दर्द रहना।

एड्स होने के कारण

  • एड्स से दूषित रक्त या रक्त उत्पादों द्वारा।
  • इंजेक्शनों द्वारा नशीली दवाइयाँ लेने से.
  • प्राकृतिक और अप्राकृतिक यौन सम्बंधो द्वार।
  • माँ द्वारा गर्भ स्थित बालक में संक्रमण पहुँचने से एड्स हो जाता है.

एड्स से बचने के उपाए

दोस्तों हम आपको बता दे की आधुनिक विज्ञानं में HIV एड्स कोई बी दवा नहीं है. और जैसा की हम आपको बता चुके है, की HIV का विषाणु शरीर  में मौजूद हमारे रोग प्रतिरोधक प्रणाली को ध्वस्त करना शुरू कर देता है.जिसकी वजह से शरीर में अनेक तरह के रोग होने लगते है.इसलिए एड्स  को सबसे पहले अपनी रोग प्रतिरोधक प्रणाली की विकसित करना अहम काम होता है. इसलिए हम आपको जो बता रहे है उसे अपनी दिनचर्या में जरूर करे.10+वियर पीने के फायदे हिंदी में पूरी जानकारी

प्राणायाम जरूर करे 

एड्स से ग्रसित रोगी को रोजाना प्राणायाम और योग जरूर करना चाहिए  जैसे की उनलोम-विलोम।कपालभाति, इन दोनों प्राणायाम करने से कोई भी बीमारी पास नहीं आती है. और अगर कोई बीमारी होती भी है तो वो जल्द थी हो जाती है.

खाने पर विशेष ध्यान दे

एड्स से ग्रसित रोगी को अपने खाने में हर रोज पत्ता गोभी,लौकी,या कद्दू का सेवन करना चाहिए क्योकि इन सब का सेवन करने से शरीर का PH level सही रहता है, और जब शरीर का PH level सही होगा तो रोग प्रतिरोधक छमता का विकाश होगा।

तुलसी के पत्तो का सेवन करे 

बैसे तो तुलसी के पत्ते बहुत ही लाभकारी होते है. जिनका इस्तेमाल कई तरह की बिमारियों को दूर करने में किया जाता है.इसलिए एड्स में रोगी को तुलसी के पत्तो का रस पीना जरूरी होता है.

इनका सेवन न करे 

  • ठन्डे जल का सेवन बिलकुल भी न करे.
  • धूम्रपान न करे.
  • ज्यादा मीठी चीजों का सेवन भी न करे.
  • तीखी,मसालेदार,बाली चीजे खाने से बचे.

I Hope फ्रेंड्स की आपको ये पोस्ट पसंद आयी होगी। आपको पोस्ट कैसी लगी आप हमे कमेंट करके जरूर बताये।

About the author

Arvind Kumar

Hello friends My name is Arvind Kumar. Here I write related articles on festival, Technology, Health, and Study at YourHindi.Com.

1 Comment

Leave a Comment