Tech Gyan

अटल बिहारी वाजपेयी जी की जीवनी Atal Bihari Vajpayee Biography

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन गुरुवार शाम 5.05 मिनट पर हो गया। वह 93 साल के थे,

श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी जीवन परिचय:दोस्तों, पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी भारत माता के एक ऐसे सपूत हैं, जिन्होंने स्वतंत्रता से पूर्व और पश्चात भी अपना जीवन देश और देशवासियों के उत्थान एवं कल्याण हेतु जीया है, दोस्तों हम आपको बता दे की धूल और धुएँ की बस्ती में पले एक साधारण अध्यापक के पुत्र श्री अटलबिहारी वाजपेयी दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रधानमंत्री बने उनका जन्म मघ्य प्रदेश के ग्वालियर में एक ब्राह्मण परिवार 25 दिसंबर 1925 को हुआ था,अटलबिहारी वाजपेयी जी के जीने  है – हम जिएँगे तो देश के लिए, मरेंगे तो देश के‍ लिए इस पावन धरती का कंकर-कंकर शंकर है, बिन्दु-बिन्दु गंगाजल है,भारत के लिए हँसते-हँसते प्राण न्योछावर करने में गौरव और गर्व का अनुभव करूँगा।’अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीती में 50  सालो से सक्रिय है,साथ साथ लेखक भी थे, बिहारी जी जैसा नेता होना पूरे देश के लिए गर्व की बात है, आज उनके अनेक कामो से देश इस मुकाम पर है अटल बिहारी जी 3 बार भारत के प्रधानमंत्री रहे चुके है,

अटल बिहारी जी की जीवनी

  1. नाम                                         अटल बिहारी वाजपेयी

2.जन्म                                         25 दिसंबर 1925

3.जन्मस्थान                                  ग्वालियर मघ्य प्रदेश

4.माता-पिता                                  कृष्णा देवी,कृष्ण बिहारी वाजपेयी

5.राजनैतिक पार्टी                           भारतीय जनता पार्टी

6.अवार्ड                                            1992 पद्मा विभूषण

                                                         1994 लोकमान्य तिलक अवार्ड

                                                         1994  पंडित गोविन्द वल्लभ पंत

                                                          2014  भारत रत्न

जन्म और शिक्षा

अटल बिहारी वाजपेयी का उनका जन्म मघ्य प्रदेश के ग्वालियर में एक ब्राह्मण परिवार 25 दिसंबर 1925 को हुआ था  अटलजी की माताजी का नाम श्रीमती कृष्णा देवी था और पिता  पं. कृष्ण बिहारी जो की एक अध्यापक थे,  इन्होंने ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज में तथा कानपुर उ. प्र. के डी. ए. वी. कॉलेज में शिक्षा ग्रहण की और राजनीति विज्ञान में एम. ए.की उपाधि प्राप्त की. सन् 1993 मे कानपुर विश्वविद्यालय द्वारा दर्शन शास्त्र में P.hd  की मानद उपाधि से सम्मानित किए गए.

डीएम के करूणानिधि जी की जीवनी

Teacher’s Day कब और क्यों मनाया जाता है

राजनीती में प्रवेश

अटल बिहारी जी देश की आजादी से पहले ही राजनीती में आ चुके थे  उन्होंने गाँधी जी के साथ भारत छोड़ो आंदोलन में भी भाग लिया था,  इसी दौरान उनकी मुलाकात भारतीय जनसंघ के लीडर श्यामा प्रसाद मुखर्जी से हुई, अटल जी ने उन्ही के साथ रहकर राजनीती सीखी और जा श्यामा प्रसाद का स्वस्थ्य  खराब रहने के कारण उनकी मौत हो गयी फिर इसके बाद अटल जी ने ही भारतीय संघ की बांगड़ौर संभाली,

आजीवन अविवाहित रहने का व्रत 

अटलबिहारी जी ने अपना पूरा अविवाहित जीवन जनता की सेवा में समर्पित कर दिया है, जिसका उदेश्य था की व्यक्ति अपना जीवन अपने हिसाब से जी सकता है..

Sant kabir das ka ki jeevani

तुलसीदास का जीवन परिचय

  • अटल जी 11वीं लोकसभा में लखनऊ से सांसद के रूप में विजयी हुए और भारतीय लोकतंत्र के प्रधानमंत्री बने। राष्ट्रपति महोदय ने उन्हें 16 मई, 1996 को प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई परन्तु बीजेपी को दूसरी पार्टी से स्पोर्ट नहीं मिलने के कारण अटल जी पहली बार प्रधानमंत्री 13 दिनो तक ही बने थे.
  • सन् 1998 के चुनावों में भी भारतीय जनता पार्टी लोकसभा में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी। चुनावों के पूर्व उसने देश की अन्य कई पार्टियों के साथ मिलकर चुनाव लड़े थे। भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टियों को राष्ट्रपति महोदय ने सरकार बनाने के लिए उपयुक्त पाया और अटलजी को सरकार बनाने का निमंत्रण दिया। अटल जी ने 19 मार्च 1998 को दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली, दूसरी बार भी स्पोर्ट न मिलने की वजह से सरकार गिर गयी
  • 13 अक्टूबर 1999 को अटल जी ने तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली और इस सरकार ने अपना पाँच वर्षों का कार्यकाल पूरा किया,

अटल बिहारी जी एक ऐसे  है जिन्होंने देश के लिए जिन्होंने स्वतंत्रता से पूर्व और पश्चात भी अपना जीवन देश और देशवासियों के उत्थान एवं कल्याण हेतु जीया है.

 अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन हो गया है। वह 93 साल के थे। अटल जी लंबे समय से बीमार चल रहे थे। वाजपेयी को सांस लेने में परेशानी, यूरीन व किडनी में संक्रमण होने के कारण 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था। 15 अगस्‍त को उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्‍हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया।

आशा करता हूँ  कि आपको यह पोस्ट हिंदी में “अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी” के बारे में उपयोगी और प्रेरणादायक मिलेगा,

About the author

Arvind Kumar

Hello friends My name is Arvind Kumar. Here I write related articles on festival, Technology, Health, and Study at YourHindi.Com.

Leave a Comment